क्या भारत चांद पर उतरने वाला चौथा देश बन गया?



चंद्रयान 3 ने चांद पर उतरकर इतिहास रच दिया?
चंद्रयान 3 ने चांद पर उतरकर इतिहास रच दिया?

क्या भारत चांद पर उतरने वाला चौथा देश बन गया? – चंद्रयान 3 मिशन 23 अगस्त की शाम को चांद की सतह पर लैंड करेगा. लैंडिंग के लिए निर्धारित समय शाम 5:27 बजे है. हालांकि, इससे पहले विक्रम लैंडर के लिए अनुकूल स्थितियों को पहचाना जाएगा. अगर स्थितियां अनुकूल नहीं हैं, तो लैंडिंग को स्थगित कर दिया जाएगा.

चंद्रयान 3 ने चांद पर उतरकर इतिहास रच दिया?

इसरो के मुताबिक, लैंडिंग के लिए निर्धारित समय से ठीक 2 घंटे पहले यान को उतारने या न उतारने पर अंतिम निर्णय होगा. अगर लैंडिंग को स्थगित करना पड़ता है, तो इसे 27 अगस्त को भी चांद पर उतारा जा सकता है.


चंद्रयान 3 मिशन भारत के लिए एक ऐतिहासिक क्षण होगा. अगर यह सफल होता है, तो भारत चंद्रमा की सतह पर अपना अंतरिक्ष यान उतारने वाला चौथा देश बन जाएगा. चंद्रयान 3 मिशन में चार उपकरण शामिल हैं: एक लैंडर, एक रोवर, एक ऑर्बिटर और एक प्रणोदक. लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतरेगा और रोवर चांद की सतह पर घूमेगा. ऑर्बिटर चंद्रमा की कक्षा में रहेगा और चंद्रमा की तस्वीरें लेगा. प्रणोदक यान को चंद्रमा की सतह पर उतारने और चांद की कक्षा में रखने के लिए जिम्मेदार होगा.


चंद्रयान 3 मिशन भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है. यह मिशन भारत को अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में एक अग्रणी देश के रूप में स्थापित करेगा.

Related Article

जगन्नाथपुरी मंदिर (Jagannath Temple History)

क्या भारत चांद पर उतरने वाला चौथा देश बन गया?

चंद्रयान 3 ने चांद पर उतरकर इतिहास रच दिया?

चंद्रयान 3 का मिशन सफल, भारत को अंतरिक्ष में बड़ी उपलब्धि

चंद्रयान 3 ने चांद की सतह पर उतरकर भारत का झंडा फहराया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *